गुरुवार, जून 30, 2011

संपूर्ण


सुनो, मैं कुछ कहना चाहता हूं

छोड़ो, शायद मैं कुछ नहीं कह पाऊंगा

मैं जानता हूं, कि तुम समझ गई होगी

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें